CHILDREN BEDROOM VASTU TIPS : क्या आपका बच्चा किसी का कहना नहीं मानता है एग्जाम में आते हैं उसके कम नंबर तो अभी कर ले ये

CHILDREN BEDROOM VASTU TIPS : ‎हर माता-पिता अपने बच्चों के व्यवहार और परीक्षा प्रदर्शन के बारे में चिंतित हैं। कमरे और फर्नीचर की अनुचित प्लेसमेंट के कारण बच्चों पर वास्तु के कुछ नकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं। बच्चों के बेडरूम वास्तु का पालन करके इन वास्तु दोषों को निरस्त किया जा सकता है।‎

CHILDREN BEDROOM VASTU TIPS

‎क्या आपने गौर किया है कि कभी-कभी अपना पूरा दिल और जिंदगी किसी काम में लगाने के बावजूद हम उसमें सफल नहीं हो पाते? खासकर बच्चों को… जो कल तक पढ़ाई में बहुत अच्छे थे, उनका दिमाग बहुत तेज था और अचानक पिछड़ने या मूडी होने लगे। जब आपका काम बिगड़ने लगे तो आपको अपने सोने के पैटर्न पर ध्यान देना चाहिए। ‎‎नींद का आपके आसपास की ऊर्जा से गहरा संबंध है‎‎।‎

‎आप जितनी गहरी और बेहतर नींद लेंगे, आपकी ऊर्जा का स्तर उतना ही सकारात्मक और ऊंचा होगा। हालांकि, अगर आपको या बच्चों को सोने में कोई परेशानी हो रही है, तो अपने और अपने बेडरूम पर एक नज़र जरूर डालें। बेडरूम के वास्तु टिप्स को ठीक करते ही आपकी सभी परेशानियों को ठीक किया जा सकता है। जानिए बच्चों का कमरा कैसा होना चाहिए।‎

‎बच्चों के बेडरूम वास्तु‎

‎बच्चों के बेडरूम वास्तु के अनुसार, ‎‎पश्चिम दिशा बच्चों के कमरे के लिए आदर्श है और इसे वहां रखा जाना चाहिए। बिस्तर को कमरे के दक्षिण-पश्चिम भाग में रखें और मन की शांति के लिए अपने बच्चे को दक्षिण या पूर्व दिशा की ओर सिर करके सोने दें।‎

‎बच्चों के बेडरूम के लिए वास्तु टिप्स‎

‎बेडरूम की स्थिति‎‎ : बच्चे के कमरे की योजना बनाने के लिए घर की पश्चिम दिशा सबसे उपयुक्त दिशा है। ‎

‎आप चाहें तो नॉर्थ ईस्ट, नॉर्थवेस्ट और साउथईस्ट दिशाओं पर भी विचार कर सकते हैं, लेकिन अपने बच्चे के बेडरूम के लिए साउथवेस्ट दिशा चुनने पर ध्यान न दें।‎

‎बिस्तर की स्थिति:‎‎ बिस्तर को कमरे की दक्षिण-पश्चिम दिशा में कहीं रखें और अपने बच्चे को मन की शांति के लिए दक्षिण या पूर्व दिशा की ओर सिर करके सोने दें।‎

‎अध्ययन की स्थिति: पढ़ाई करते समय उत्तर दिशा का सामना‎‎ ‎‎करने से‎‎ सबसे अधिक मदद मिलती है; यह एकाग्रता के स्तर को बढ़ाता है और छात्र की सफलता में सकारात्मक योगदान देता है।‎

‎दर्पण; ‎‎ बच्चों के बिस्तर के विपरीत दिशा से दर्पणों को दूर रखना याद रखें क्योंकि यह वास्तु के सिद्धांतों के अनुसार पूरी तरह से सीमित है।‎

‎सामान‎‎; कोशिश करें कि फर्नीचर को कमरे की किसी भी दीवार से सटे न रखें। यह कमरे में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को बाधित कर सकता है। ‎

‎सभी फर्नीचर को दीवार से 3 इंच दूर रखें। अलमारी और अलमारी को दक्षिण या पश्चिम दिशा में रखा जा सकता है।‎

‎प्रकाश व्यवस्था‎‎ : युवाओं के कमरे के लिए दक्षिण-पूर्व कोने पर अप-लाइटर का उपयोग करें क्योंकि यह कल्याण के लिए उपयोगी है और सकारात्मक आभा पैदा करता है। कभी भी तेज रोशनी और स्पॉट लाइट का उपयोग न करें क्योंकि यह मानसिक तनाव को बढ़ाता है।‎

MONEY LOCKER VASTU TIPS : अपने पैसे वाले लॉकर को कहा और किस जगह रखना चाहिये जिससे पैसो की कमी नहीं हो जाने अभी

‎दरवाजे और खिड़कियां – युवाओं के कमरे का प्रवेश द्वार पूर्व या उत्तर में होने दें और इसमें केवल एक शटर होना चाहिए। कमरे के पूर्व और उत्तर में खिड़कियां फायदेमंद हैं। ‎

‎पूर्व या उत्तर की खिड़की के विपरीत पश्चिम में एक छोटी खिड़की होने से कोई नुकसान नहीं होता है। ‎

‎खिड़की दरवाजे की स्थिति के विपरीत हो सकती है। कमरे का प्रवेश द्वार बिस्तर के विपरीत नहीं होना चाहिए।‎

‎रंग योजना‎‎ : रंग मूड को काफी हद तक प्रभावित करते हैं। हरा रंग बच्चों के बेडरूम के लिए आदर्श है क्योंकि यह मस्तिष्क की शक्ति को बढ़ाता है और ताजगी और शांति भी प्रदान करता है।‎

‎सजावट ‎‎: ताजगी और शांति की अनुमति देने के लिए बहते जल निकायों के साथ अपने बच्चे के कमरे के पूर्वोत्तर कोने को सजाएं।‎

‎बुक रैक और भंडारण‎‎; पश्चिम या दक्षिण दिशा की दीवारें बुक रैक, बुक शेल्फ की व्यवस्था करने के लिए सबसे अच्छे विकल्प हैं।‎

TULSI PLANT VASTU TIPS : तुलसी का पौधा अगर वास्तु के अनुसार लगाये तो होगे अनेको फायदे जाने अभी परेशानी से बचे

‎बेडरूम की दिशा‎

‎आजकल बच्चों और बड़ों के लिए अलग-अलग कमरे हैं। घरों में कई बेडरूम होते हैं, जिसमें गेस्ट रूम भी शामिल होता है। वास्तु शास्त्र में सभी के कमरे के लिए एक दिशा तय की गई है, जिसका ध्यान रखना चाहिए। पढ़ें, किसका बेडरूम किस दिशा में होना चाहिए।‎

  1. ‎मास्टर बेडरूम, जिसमें घर का मुखिया सोता है, दक्षिण-पश्चिम कोने में होना चाहिए। यह उनके लिए बहुत शुभ माना जाता है।‎
  2. ‎बच्चों का कमरा पश्चिम दिशा में होना चाहिए। इससे उनकी तरक्की में किसी भी तरह का रोड़ा नहीं आएगा।‎
  3. ‎अविवाहित कन्याओं और मेहमानों का शयनकक्ष उत्तर-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। यह दिशा यातायात से संबंधित है।‎
CHILDREN BEDROOM VASTU TIPS
CHILDREN BEDROOM VASTU TIPS

‎बच्चों को इस दिशा में बेडरूम न बनाएं‎

‎हमें पता चला है कि बेडरूम को किस दिशा में शुभ माना जाता है, अब यह भी जानना जरूरी है कि बेडरूम को किस दिशा में जाने से बचना चाहिए।‎

  1. ‎बेडरूम उत्तर-पूर्व दिशा में नहीं होना चाहिए क्योंकि यह दिशा देवताओं का स्थान है। इस दिशा में शयनकक्ष होने के कारण धन हानि और अशांति की संभावना रहती है।‎
  2. ‎बेडरूम भी दक्षिण-पूर्व दिशा में नहीं होना चाहिए क्योंकि यह दिशा अग्नि कोण है। इसे आक्रामक रवैये से जुड़ा माना जा रहा है।‎
  3. ‎घर के मध्य भाग में शयनकक्ष होना सही नहीं माना जाता क्योंकि इस भाग को ब्रह्मस्थान कहा जाता है।‎

MAIN DOOR VASTU TIPS : अगर अपने घर में लगाया है ऐसे दरवाजा तो हो सकती है आपको बहुत सी परेशानियां जाने अभी

‎बच्चों के लिए बेडरूम वास्तु टिप्स‎

‎घर की खूबसूरती बच्चों से ही आती है। अगर वे शांत या चुप रहेंगे तो वैसे भी घर में अशांति का माहौल रहेगा। इसलिए अपने बेडरूम को डिजाइन करते समय इन वास्तु टिप्स का खास ख्याल रखें-‎

  1. ‎उनके कमरे की दीवारें हमेशा सफेद या हल्के रंग की होनी चाहिए।‎
  2. ‎बच्चों के बेडरूम का दरवाजा उत्तर या पूर्व दिशा में होना चाहिए। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि दरवाजा सिंगल होना चाहिए, डबल नहीं।‎
  3. ‎बच्चों को हमेशा पूर्व दिशा में सिर और पश्चिम दिशा में पैर करके सोना चाहिए। इससे उनकी याददाश्त में तेजी आती है।‎
  4. ‎बच्चों के बेडरूम में स्टडी टेबल-चेयर दक्षिण दिशा में रखनी चाहिए। इससे उनका ध्यान नहीं भटकता।‎
  5. ‎बच्चों के बेडरूम में बिस्तर के सामने कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान नहीं रखना चाहिए। बिस्तर के सामने इलेक्ट्रॉनिक सामान रखने से उनकी सेहत और दिमाग दोनों पर नकारात्मक असर पड़ता है।‎
  6. ‎बच्चों के बेडरूम की लाइटिंग न तो ज्यादा तेज होनी चाहिए और न ही बहुत धीमी होनी चाहिए।‎

MUST READ : child bedroom in south

WALL CLOCK VASTU TIPS : जानिये वास्तु के अनुसार किस तरह की दीवार घड़ी घर में लगानी चाहिये और किस दिशा में लगानी चाहिये जानिए अभी

1 thought on “CHILDREN BEDROOM VASTU TIPS : क्या आपका बच्चा किसी का कहना नहीं मानता है एग्जाम में आते हैं उसके कम नंबर तो अभी कर ले ये”

Leave a Comment